होमउत्तराखण्डकाली पट्टी बांधकर सरकार द्वारा शिक्षकों की उपेक्षा का विरोध किया

काली पट्टी बांधकर सरकार द्वारा शिक्षकों की उपेक्षा का विरोध किया

हल्द्वानी ब्लॉक के सभी राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में आज राजकीय शिक्षक संघ के सदस्यों ने प्रान्तीय कार्यकारिणी के आह्वान पर हाथों में काली पट्टी बांधकर सरकार द्वारा शिक्षकों की उपेक्षा का विरोध किया।
राजकीय इण्टर कॉलेज नारायण नगर,लामाचौड़,,कटघरिया,डोलिया, हल्दूचौड़, बिंदुखेड़ा,जी जी आई सी हल्द्वानी, सहित सभी विद्यालयोँ के शिक्षक- शिक्षिकाओं ने प्रातः से ही काली पट्टी बांधकर पठन-पाठन कार्य किया। खण्डस्त्तरीय संस्कृत प्रतियोगिताएं भी सम्पन्न कराई गई।

गौरतलब है कि एल टी और प्रवक्ता संवर्ग की पदोन्नति सूची विगत 5 वर्षों से लटकी हुई है।मामला न्यायालय में लम्बित है जहां सरकारी वकील के द्वारा ठीक से पैरवी नहीं किए जाने से मामला पेंचीदा बन गया है।
प्राथमिक से एल टी में समायोजित और पूर्व में 1990 में तदर्थ शिक्षकों की नियुक्ति और नियम विरुद्ध वरिष्ठता निर्धारण के फ़लस्वरू ये दोनों मामले माननीय न्यायालय में विचाराधीन हैं।एल टी सीधी भर्ती शिक्षकों की मांग है कि समायोजित और तदर्थ शिक्षकों की वरिष्ठता का निर्धारण समायोजन और विनियमितीकरण की तिथि के बाद ही न्यायसंगत है। जबकि इन्हें गलत तरीके से वरिष्ठता दी जा रही है।
इसी प्रकार शिक्षकों की वेतन विसंगतियाँ , यात्रावकाश , ट्रान्सफर आदि से सम्बंधित मामलों में शिक्षामंत्री से आश्वासन के बाद भी अधिकारी इन मामलों को लम्बित करते जा रहे हैं।
राजकीय शिक्षक संघ ने चरणबद्ध तरीके से सरकारी नीतियों के खिलाफ आंदोलन का बिगुल फूंक दिया है।30 अक्टूबर को निदेशालय पर धरना प्रदर्शन कार्यक्रम निर्धारित किया गया है। तब भी अधिकारियों ने समाधान नहीं निकाला तो राजकीय शिक्षक संघ हड़ताल के लिए बाध्य होंगे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Exit mobile version